udaipur ki college life phir se jiu kavita

Udaipur Ki College Life Phir Se Jiu Poem

udaipur ki college life phir se jiu poem, udaipur ki college life phir se jiu kavita, my college life in udaipur, my college life, students life in udaipur, me and my college friends, my college life poetry, college life poetry, student life poetry, remembrance of college friends, memory of college friends

Udaipur Ki College Life Phir Se Jiu Poem in Hindi

उदयपुर मेरी जन्मस्थली नहीं, विद्यास्थली रही है
इस जैसा दूसरा शहर पूरी दुनियाँ में कहीं नहीं है
बहुत सीधे, सरल, भोले है लोग यहाँ के
रखते है सभी को अपनी छत्र छायाँ में छुपा के

लेकिन फिर भी, गुजरे हुए दिन सभी को याद आते हैं
ये दिन अगर कॉलेज के हों, तो बहुत तड़पाते हैं
आँखों के सामने पुराना मंजर घूम जाता है
पल दो पल के लिए मन खुशी से झूम जाता है

बचपन के दोस्तों और परिवार के बिन
कॉलेज में था जब मेरा पहला दिन
दिल था थोडा उदास और थोडा सा खिन्न
लगता था, कैसे बीतेंगे मेरे ये पल छिन

कुछ दिन बीते, धीरे-धीरे मन बदलने लगा
उदासी ढलने लगी और दिल मचलने लगा
नए यारों के साथ दूर होने लगी तन्हाई
उदयपुर की आबो हवा मेरे मन में समाई

दिन कॉलेज में और शाम को फतहसागर की पाल
यारों के साथ इधर उधर घूमते फिरते करते धमाल
पाल के चारों तरफ झुण्ड में बाइक से घूमना
बिना किसी की परवाह किये कहीं पर भी झूमना

पाल पे बैठे-बैठे हाथों से चाय का इशारा
चाय में देरी बिलकुल ना थी गवारा
किसी के हाथों में होता था भुना हुआ भुट्टा
कोई मारता था छुपा कर सिगरेट का सुट्टा

कई बार यहीं पर दिख जाते थे गुरुदेव हमारे
वो हमें निहारे हम उन्हें निहारे
गुरु शिष्य दोनों नजरे बचाकर अनदेखा कर जाते
अगले दिन क्लास में इशारों में पूरा किस्सा दोहराते

सहेलियोँ की बाड़ी में सहेलियों को तकना
ना जाने क्यों, दूर तलक पीछे पीछे चलना
पलटकर देखे जाने पर अचानक से रूकना
जूते की डोरी को खोलकर उसको कसना

गुलाब बाग की मस्ती और पिछोला का जोश
गन्ने के रस का बड़ा गिलास उड़ाता था होश
चेतक सिनेमा की फिल्में और स्वप्नलोक का जुनून
कई बार अशोका में भी मिल जाता था स्वप्नलोक सा सुरूर

कंधे पर एप्रिन और मदमस्त हाथी सी चाल
यारों का साथ और रुतबा बनता था ढाल
बिना पैसे दिए टेम्पो पर लटकनें का खुमार
चाय की टपरी पे गपशप में सभी होते थे शुमार

सिटी पैलेस, गुलाब बाग में विदेशियों को देखना
टूटी फूटी अंग्रेजी में उल्टा सीधा कुछ भी फेंकना
उदयापोल, सूरजपोल और देहली गेट का नजारा
अब सिर्फ यादों में है, बहुत वर्षों से ना देख पाया दुबारा

जो गुजर गया वो एक सुन्दर सपना था
मेरा कॉलेज और उदयपुर सब अपना था
जहाँ मिला अमिट प्यार और अपनापन
उसी चाहत में आज भी तड़पता है मेरा मन

उम्र के साथ कई दोस्तों के ओहदे भी बड़े हो गए हैं
पैसे की चाहत और दुनियादारी के मसले खड़े हो गए हैं
मेरे दोस्तों को पुरानी जिंदगी याद तो आती होगी
वर्षों में ही सही कभी-कभी तो आँखे भिगाती होगी

फतेहसागर, सुखाडिया सर्किल, सब वहाँ है
मगर मेरे पुरानें साथी न जाने कहाँ है
बहुत बार दिल करता है कि वही पल फिर से जिऊँ
उन्हीं दोस्तों के साथ एक कप चाय फिर से पिऊँ
एक कप चाय फिर से पिऊँ

Udaipur Ki College Life Phir Se Jiu Poem in English

udaipur meri janmsthali nahi, vidyasthali rahi hai
is jaisa doosra shahar poori duniya me kahi nahi hai
bahut seedhe, saral or bhole hain log yaha ke
rakhte hain sabhi ko apni chhatra chhaya me chhupa ke

lekin phir bhi, gujre huye din sabhi ko yaad aate hai
ye din agar college ke ho, to bahut tadpate hain
aankhon ke saamne purana manjar ghoom jaata hai
pal do pal ke liye man khushi se jhoom jaata hai

bachpan ke doston or parivaar ke bin
college me tha jab mera pahla din
dil tha thoda sa udaas or thoda sa khinn
lagta tha, kaise beetenge mere ye pal chin

kuchh din beete, dheere dheere man badlane laga
udasi dhalne lagi or dil machalne laga
naye yaron ke saath door hone lagi tanhai
udaipur ki aabo hawa mere man me samai

din college me aur shaam ko fatehsagar ki paal
yaron ke saath idhar udhar ghoomte phirte karte dhamaal
paal ke charon taraf jhund me bike se ghoomna
bina kisi ki parwah kiye kahin par bhi jhoomna

paal pe baithe baithe hathon se chay ka ishara
chaay me deri bilkul naa thi gavara
kisi ke hathon me hota tha bhuna hua bhutta
koi maarta tha chhupa kar cigarette ka sutta

kai baar yahin par dikh jaate the gurudev hamare
vo hame nihare ham unhe nihare
guru shishya najre bachakar andekha kar jaate
agle din class me isharon isharon me poora kissa dohrate

sahelion ki badi me sahelion ko takta
naa jane kyon, door talak peechhe peechhe chalna
palatkar dekhe jaane par achanak se rukna
joote ki dori ko kholkar usko kasna

gulab bag ki masti aur pichhola ka josh
ganne ke ras ka bada gilas udaata tha hosh
chetak cinema ki filmen aur swapnlok ka junoon
kai baar ashoka me bhi mil jaata tha swapnlok sa suroor

kandhe par aprin aur madmast haathi si chaal
yaron ka saath aur rutba banta tha dhaal
bina paise diye tempo par latakne ka khumaar
chaay ki tapri pe gapshap me sabhi hote the shumaar

Also read जय हो माँ भारती मैं हूँ विद्यार्थी कविता

city palace, gulab bag me videshiyon ko dekhna
tooti phooti angreji me ulta seedha kuchh bhi fainkna
udyapol, surajpol aur delhi gate ka najara
ab sirf yadon me hai, bahut varshon se naa dekh paaya dubara

jo gujar gaya vo ek sundar sapna tha
mera college aur udaipur sab apna tha
jahan mila amit pyar aur apnapan
usi chahat me aaj bhi tadapta hai mera man

umra ke saath kai doston ke ohde bhi bade ho gaye hain
paise ki chaahat aur duniyadari ke masle khade ho gaye hain
mere doston ko purani jindagi yaad to aati hogi
varshon me hi sahi, kabhi kabhi to aankhe bhigati hogi

fatehsagar, sukhadiya circle, sab vahan hai
magar mere purane saathi naa jane kahan hai
bahut baar dil karta hai ki vahi pal phir se jiu
unhi doston ke saathek cup chaay phir se piu

Watch Video

About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Disclaimer

इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं तथा कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार SMPR App के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति SMPR App उत्तरदायी नहीं है.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.